Saturday, October 3, 2015

बनारस की प्राचीन रामलीला






बनारस की प्राचीन रामलीला का अपना महत्व है। इसे मेघा भगत ने शुरू किया था। यदि राम की प्रतिमूर्ति के पैर धोकर पीते हुए आप यहां के लोगों को देखेंगे तो आश्चर्य चकित अवश्य होंगे। क्या हुआ! सन् 1838 के क्वार के महीने में बनारस के अंग्रेज कलक्टर मिस्टर वाक्सलवरेन्ट और उनके साथी भी रामलीला देखकर भौंचक्के रह गए। चौकाघाट पर समुंद्र लंघन की लीला चल रही थी। निकट की वरूणा नदी का जल बाढ़ के कारण लीला भूमि तक तैर रहा था। घूमते-फिरते अंग्रेज कलक्टर और पादरी लीला भूमि तक पहुंचे और रामलीला के दृश्यों को देखर अट्टाहास करते हुए कहा-‘रामायण के हनुमान तो समुंद्र लांघ गए थे, आप इस बढ़ी हुई नदी का यह पाट लांघ जाएं, तो समझा जाए कि रामलीला आयोजित करने का कोई सामाजिक-धार्मिक महत्व है। चमत्कार हुआ कि रामलीला के हनुमान जय बजरंग बली उद्घोष के साथ एक छलांग में नदी के बढ़े हुये जल को लांघ गए और उलटकर देख इंसानी एहसास होने पर वह स्वर्गवासी हो गए। रामलीला के हनुमानजी के स्मारक के रूप में वहां एक मंदिर स्थापित है। अंग्रेज कलक्टर बहुत प्रभावित हुए और तब से राजकीय स्तर पर रामलीला को आर्थिक सहायता एवं संरक्षण प्राप्त है, जिसका निर्वाह वर्तमान सरकार भी करती आ रही है। ....
गंगा किनारे बसी बाबा विश्वनाथ की काशी
लोक, कला और पर्यटन के मामले में वाराणसी बेहद समृद्ध है। यहां देश-विदेश से पर्यटक आते हैं। यहां गंगा के घाट सदियों पुराना इतिहास समेटे हुए हैं। भगवान शिव का प्रसिद्ध तीर्थस्थल होने के कारण भी यहां साल ....
शिव की नगरी काशी
वाराणसी जिसे बनारस या काशी भी कहा जाता है, एक प्रसिद्ध हिंदू तीर्थस्‍थल है। यह शहर गंगा नदी के तट पर उत्तर प्रदेश में स्थित है। यह विश्‍व का वैसा प्राचीनतम शहर है जहां प्राचीन काल से ही लोग लगातार निव....
वाराणसी के दर्शनीय स्थल
बनारस जहां की गलियों में आज भी संस्कृति और परंपरा का रस बरसता है। गंगा किनारे बसी बाबा विश्वनाथ की नगरी को घटों और गलियों का शहर कहा जाता है। जितने घर हैं उतने मंदिर। कहते हैं काशी के कंकड़-कंकड़ में ....
माँ अन्नपूर्णा
बाबा भोले की नगरी के रूप में विख्यात काशी दुनिया का सबसे पुराना एक मात्र ऐसा शहर है, जिसका 3500 वर्ष पुराना लिखित इतिहास मौजूद है। यहां गंगा के पश्चिमी घाट पर भगवान शिव के बारह ज्योर्तिलिंग में से एक ....
हिन्दी - उर्दू शब्दकोष
अक़्ल= बुद्धि, तर्क, ज्ञान अकबर= सबसे महान अकसर= अधिकतर, आमतौर पर, बहुत, बार बार अख्ज़= पकड़नेवाला, लेनेवाला, छीनने वाला, लोभी अख़बार= समाचार, समाचारपत्र अगर= यदि, तथापि अग्य्ा़ार= अजनबी, प्रतिद....
काशी : सकल-सुमंगल–रासी
भारत को धर्म और दर्शन की धरा के रूप में जाना और माना जाता है। भारत अनेकता में एकता की सजीव प्रतिमा है। इसी भारतीयता का समग्र चरित्र किसी एक शहर में देखना हो तो वह होगा बनारस। बनारस को काशी और वाराणसी ....
परंपरा को गंगा की मानिंद मानते थे वीरभद्र मिश्र
भारतीय संस्कृति के सजग प्रहरी प्रख्यात पर्यावरणविद् प्रो. वीरभद्र मिश्र काशी के लिये संघर्षशील रह रहकर अपना जीवन माँ गंगा के नाम समर्पित कर दिया था | प्रोफ़ेसर मिश्र संकटमोचन मंदिर के महंत रहे और साथ ....
यह जो बनारस है
शहर का अर्थ अपनी मूल भाषा में चाहे जो होता हो, बनारस के लिए कभी भी यह शब्द उपयुक्त नहीं रहा है। जैसे डालडा ने घी का, कॉलगेट ने टूथपेस्ट का और सर्फ ने डिटर्जेंट का अर्थ एक समय में हिंदुस्तानी मध्यवर्ग ....
बनारस के कुछ तथ्‍य
उस बनारस की जो गंगा के किनारे-किनारे, कुछ-कुछ इन्द्रधनुष जैसा ही दक्षिण से उतर तक पसरा हआ है। कहा तो यह भी जाता हैं कि गंगा के किनारे शहर नहीं बसा है। शहर के किनारे गंगा बसी हुई है। व्याकरण के पण्डित ..

No comments:

Post a Comment