Friday, December 16, 2011

दिल्ली-आगरा शिमला से भी ठंडे सर्दी से जम गई जिंदगीः





Source: Dainikbhaskar.com   |   Last Updated 11:57(17/12/11)

विज्ञापन
नई दिल्ली.पूरे उत्तर भारत समेत देश के कई इलाकों में ठंड ने दस्तक दे दी है। सर्दी का इंतेजार कर रही दिल्ली भी शुक्रवार और शनिवार को कंपकपाने लगी। देश की राजधानी दिल्ली हिमालय की रानी शिमला से भी ठंडी हो गई।  

शुक्रवार की रात को तो दिल्ली भी शिमला की तरह ठंडी हो गई। मौसम विभाग के मुताबिक अगले एक हफ्ते तक दिल्ली के तापमान में गिरावट जारी रहेगी। अब तक दिल्ली में गुलाबी सर्दियों का मजा ले रहे लोगों को अब दिल्ली की असली सर्दी का सामना करना पड़ेगा। शुक्रवार की सुबह दिल्ली का तापमान 4.7 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया था। शिमला का तपामान का न्यूनतम तापमान भी इतना ही था। शनिवार को भी तापमान इसी स्तर पर रहा। दिल्ली के साथ-साथ पूरे उत्तर और मध्य भारत में सर्दी जार है।
आगरा में तापमान 2.4 डिग्री सेल्सियस तक गिरा
उत्तर प्रदेश में सर्द हवाओं की वजह से ठंडक बढ़ती जा रही हैं। मौसम विभाग ने आने वाले दिनो में शीतलहर और सर्दी से राहत मिलने की सम्भावना से इंकार किया है।
शनिवार सुबह राजधानी लखनऊ में न्यूनतम तापमान 4.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके अलावा कानपुर का 2.8 डिग्री सेल्सियस और आगरा में 2.4 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया, जो सामान्य से तीन से पांच डिग्री कम है।
मौसम विभाग के अधिकारियों ने पूर्वानुमान जताया कि आगामी 20 दिसम्बर तक मौसम यथावत रहेगा। घने कोहरे के बीच दिन में हल्की धूप खिलेगी, लेकिन उससे लोगों को खास राहत नहीं मिलने वाली।
उधर राज्य सरकार की तरफ से शीतलहर से निपटने के लिए कुल 6.66 करोड़ रुपये की धनराशि जारी की गई है। राहत आयुक्त के.के.सिन्हा ने कहा कि सभी जिला अधिकरियों को सार्वजनिक स्थलों पर अलाव जलाने और जरूरतमंदों को कम्बल बांटने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि कोई भी बेघर व्यक्ति खुले में रात न गुजारे।
राजस्थान में भी सर्दी में बढ़त जारी, तापमान एक डिग्री गिरा!
अजमेर. मौसम में सर्दी का प्रभाव दिनों-दिन तेज होता जा रहा है। शुक्रवार को न्यूनतम तापमान में एक डिग्री की गिरावट भी दर्ज की गई। अलसुबह ओस गिरने का सिलसिला जारी रहा। सुबह 11 बजे बाद ही धूप की राहत शहरवासियों को मिल सकी। दोपहर में शहरवासियों को धूप सुहाई रही। मगर सूर्यास्त होने के साथ ही ठंड ने असर दिखाने की शुरुआत कर दी। रात में ठंड का असर ज्यादा रहा। शहरवासियों ने गर्म कपड़े पहन और अलाव जलाकर ठंड से राहत पाई। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 25.2 तथा न्यूनतम तापमान 8.7 डिग्री रहा। जबकि गुरुवार को अधिकतम तापमान 25.3 तथा न्यूनतम तापमान 9.4 डिग्री सेल्सियस रहा। सुबह की आद्र्रता 51 तथा शाम की आद्र्रता 3 प्रतिशत दर्ज की गई।
छत्तीसगढ़ में पारा 2.5 डिग्री सेल्सियस तक गिरा
रायपुर। उत्तरी दिशा से आने लगी हवाओं के साथ आई ठंडक ने राज्य के घने जंगल और पहाड़ों वाले इलाकों में असर दिखाना शुरू कर दिया है। सरगुजा, कवर्धा में जबर्दस्त ठंड पडऩी शुरू हो गई है। अंबिकापुर समेत इलाके के मैदानी इलाकों में पारा 2.5 से 6 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया। सरगुजा के सामरीपाट इलाके में पारा एक के करीब पहुंच रहा है। कई जगह से पाला पडऩे की खबर आ रही है। मैनपाट में पारा एक से डेढ़ डिग्री तक गिर चुका है। ठंड की वजह से इलाके में सामान्य जनजीवन प्रभावित होने लगा है। खासकर स्कूल जाने वाले बच्चों को दिक्कत हो रही है। कवर्धा जिले के चिल्फी घाटी इलाके में कई स्थानों पर सुबह बर्फ की परत जमने लगी है।
पौष का मास लगते ही ठंड बढ़ गई है। शुक्रवार को पौष के पांचवे दिन, दिन भर ठंडी हवा चलती रही। जिसके कारण दिन भर लोगों में धूप में आनंद लेते देखा गया। वहीं सुबह व शाम के समय घना कोहरा छाया रहा। सुबह के समय बाहर खड़े वाहनों और पेड़-पौधों में ओस जमने लगी है। ठंड से बचने लोग अब सुबह-शाम अलाव जलाने लगे हैं। ठंड बढऩे साथ दुकानों में गरम कपड़े भी बिकने लगे हैं, लोगों की भीड़ इन दुकानों में बढ़ गई है। अभी तक ठंड कम होने के कारण गरम कपड़ों के विक्रेता मायूस थे।

ठंड के बढ़ते ही वे ग्राहकी को लेकर उत्साहित है। ठंड के कारण लोगों की दिनचर्या में थोड़ा बदलाव आया है। वे सुबह की कड़ाके की सर्दी के चलते देर से उठने लगे है। सड़कों पर सुबह भ्रमण करने वाले लोगों की संख्या अब कम दिखाई दे रही है। इसके कारण मार्केट में भी सुबह 10 बजे के बाद चहल-पहल दिखाई देती है। वही रात्रि 8 बजे के बाद मार्केट सूना पड़ जाता है।इधर ठंड बढऩे के साथ ही लोगों के स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पडऩे लगा है। खांसी, सर्दी व बुखार से लोग पीडि़त होने लगे हैं।
मनाली की सर्दी ने जमा दी पाइप लाइनें!
मनाली क्षेत्र में ठंड का प्रकोप बढऩे लगा है। सोलंग व कोठी में पानी की पाइप भी जम गई है। मनाली के दूर-दराज गांव में ठंड के कारण पानी की पाइपें जमने लगी है। बाहरी राज्यों से मनाली आ रहे सैलानी भी होटलों में जाते हीं गर्म उपकरणों की मांग करने लगे हैं। घाटी के गांव में तंदूर व बुखारियों का सहारा लिया जा रहा है।
सोलंग गांव के ग्रामीण हीरा लाल, रुप लाल ठाकुर और दिले राम ने बताया कि कुछ दिनों से ठंड बढ़ गई है और पानी की पाइपें जमना शुरू है। उनका कहना है कि सुबह व शाम को ठंड अपने चरम पर है। कोठी गांव के ग्रामीण केशव राम, सुरेश ठाकुर और पन्ना लाल का कहना है कि उनके घरों में पानी की पाइप फटने का क्रम शुरू हो गया है। उनका कहना है कि दिन को धूप रहने के कारण थोड़ी राहत मिल रही है, लेकिन रात को ठंड चरम पर है।
पर्यटन नगरी मनाली पहुंचने वाले सैलानी भी ठंड से ठिठुरने लगे हैं। होटल व्यवसायियों का कहना है कि मनाली में सैलानियों की आमद बढऩे लगी है तथा सैलानी होटलों में हीटर की मांग करने लगे हैं। होटल व्यवसायी संजय शर्मा व रवि का कहना है कि पिछले कुछ दिनों से मनाली में ठंड बढ़ गई है।
शीतलहर की चपेट में आ गया शिमला का इलाका
शिमला. हिल्स क्वीन शिमला सहित प्रदेश भर में कड़ाके की ठंड जारी है। ऊंचाई वाले इलाकों समेत निचले मैदानी इलाके भी शीतलहर की चपेट में आ गए हैं। अधिकतर क्षेत्रों में रात का तापमान पांच डिग्री सेल्सियस से नीचे लुढ़क गया है जो कि सामान्य से करीब दो डिग्री सेल्सियस कम है। वीरवार को पांच स्थानों का न्यूनतम तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस से भी कम दर्ज किया गया।
केलांग सबसे ठंडा स्थान रहा और यहां का न्यूनतम तापमान माइनस 5.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके अलावा भुंतर का माइनस 0.1, कल्पा का माइनस 1.2, सोलन का माइनस 1 और मनाली का माइनस 0.8 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क गया है। राजधानी शिमला का न्यूनतम तापमान 4.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यहां पर सुबह से ही धूप खिली रही, लेकिन ठंडी हवाएं चलने से लोगों ने ठिठुरन भी महसूस की। सुंदरनगर का न्यूनतम तापमान 1.1, धर्मशाला का 5.1, ऊना का 3, नाहन का 6.7, पालमपुर का 4.5 और मंडी का 4.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

No comments:

Post a Comment