Tuesday, June 21, 2011

रेत के


रेत के टीले ठहरे कितने दिन
लहरें आई और बहा ले चली
यादों के टीले उमर भर को
समय की तक एक न चली .
यह ठीक है की समय और
रेत मे बहुत समानता है
समय भी रेत की तरह
पल भर मे फिसल जाता है
पर यादों के सफ़र को
कोई रोक नहीं पाता है

 रूकती नही है यादें पर पर .कई लोग इससे होते है खफा
सबको संभाव कर याथ चलना है कठिन
बेबस सा बस में नहीं मन
बस में नहीं यादें और बस में नहीं महाभारत को रोकना 
लहरें तो यार आकर चली जाती है , पर कभी नहीं फिर आता यकीन
जिसके खोने पर साथी को होता है दर्द?
एम. एस. सुमन

No comments:

Post a Comment