Wednesday, October 29, 2014

छठ में मुस्लिम भी देते हैं भागीदारी









लोहरदगा। भारतीय संस्कृति की विशेषता विविधता में एकता की है। सभी संप्रदाय के लोग आपस में मिल-जुलकर पर्व त्योहारों को मनाते हैं। इसी का उदाहरण सेरेंगहातु तोड़ार छठ पूजा समिति है। वर्षों से साम्प्रदायिक एकता की मिसाल बनी इस छठ पूजा समिति मंे हिंदू, मुस्लिम व इसाई समुदाय के लोग एक साथ त्योहार के आयोजन को लेकर भागीदारी निभाते हैं। छठ घाट की सफाई से लेकर छठव्रतियों को सुविधा, अस्थायी सेतु निर्माण, प्रकाश की व्यवस्था के अलावा वाहनों के पार्किंग की जिम्मेवारी भी गांववाले मिलकर करते हैं। छठघाटों की सफाई एवं अन्य व्यवस्था के लिए श्रमदान में भी सभी समुदाय के लोगों की भागीदारी रहती है साथ ही प्रकाश पंडाल एवं अन्य व्यवस्थाओं के लिए भी सभी समुदाय के लोग बेहिचक आर्थिक सहयोग करते हैं। मुस्लिम समुदाय के युसूफ अंसारी, इशहाक अंसारी, शमशुद्दीन अंसारी, तबारक अंसारी, महताब अंसारी छठपूजा में पिछले क ई वर्षों से सक्रिय हैं। वहीं इसाई समुदाय के भी कई युवक पूजा व्यवस्था मेें बढ़-चढ़कर भागीदारी निभाते हैं। गांववालों के सामूहिक प्रयास से यहां आनेवाले छठव्रतियों को भी काफी सुविधा होती है। छठपूजा समिति द्वारा पूजन सामग्री से लेकर ठंड से बचाव के लिए लकड़ी भी उपलब्ध कराई जाती है। बेहतर सुविधा एवं विधिव्यवस्था के कारण प्रतिवर्ष सेरेंगहातु के छठ घाट पर व्रतियों की भीड़ बढ़ रही है। पूर्व में जहां सेरेंगहातु गांव के लोग ही इस छठ घाट का उपयोग करते थे अब लोहरदगा शहर से भी सैकड़ों व्रती सेरेंगहातु छठ घाट पर ही व्रत करना पसंद करती हैं।

1 comment: