Tuesday, January 17, 2012

झारखंड में गिर रहा लिंगानुपात




* एक्ट के पालन की जिम्मेदारी सीएस पर.
* धनबाद से सीख ले अन्य जिले.
* राज्य में 550 पंजीकृत अल्ट्रासाउंड.
रांची : पीसी एंड पीएनडीटी एक्ट का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए, तभी कार्यशाला का लाभ मिल सकता है. झारखंड में लिंगानुपात की स्थिति अच्छी है, लेकिन वर्तमान में यह अनुपात गिरता जा रहा है. यह चिंता का विषय है.
अगर यही हाल रहा तो झारखंड की स्थिति पंजाब और चडीगढ़ जैसी हो जायेगी. चिकित्सकों के अंदर पैसा कमाने की भूख है, इसलिए वह लिंग की जांच करते हैं. यही कारण है कि अल्ट्रासाउंड की भरमार है. यह बातें स्वास्थ्य मंत्री हेमलाल मुरमू ने कही. वे सोमवार को कैपिटल हिल में पीसी एंड पीएपडीटी एक्ट को लेकर आयोजित कार्यशाला में बोल रहे थे.
कार्यक्रम का आयोजन स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा किया गया था. उन्होंने बताया कि राज्य में 550 पंजीकृत अल्ट्रासाउंड है. धनबाद जिला ने पीसी एंड पीएनडीटी एक्ट को कठोरता से लागू किया है. अन्य जिलों को इससे सीख लेनी चाहिए. स्वास्थ्य सचिव के विद्यासागर ने कहा लिंग की जानकारी के लिए उपकरण का गलत इस्तेमाल किया जाना दुखद बात है.
यही वजह है कि झारखंड ट्राइबल राज्य होने के बावजूद यहां लिंगानुपात गिरता जा रहा है. लोगों को भी समझना होगा कि बेटियां देश के लिए बोझ नहीं है. तीन राज्य की मुख्यमंत्री, स्पीकर और राष्ट्रपति इसका उदाहरण है. एनआरएचएम की मिशन डायरेक्टर आराधना पटनायक ने कहा कि एक्ट का पालन सही से हो इसके लिए कमेटी बनायी गयी है, जिसकी जिम्मेदारी सिविल सर्जन की है.
झारखंड में पहले लड़कियां ज्यादा थीं, लेकिन अब कम हो गयी हैं. खास कर धनबाद, गिरिडीह, रांची, बोकारो, हजारीबाग एवं रामगढ़ में लिंगानुपात काफी कम है. राज्य का लिंगानुपात 1000:947 है. ऐडशनल डायरेक्टर हेल्थ सर्विसेज डॉ एमएन लाल ने बताया कि एक्ट के पालन के लिए फार्म एफ का ऑनलाइन ट्रैकिंग किया जायेगा. एक्ट के पालन के लिए अनुछेद 312 से 318 में नियम बनाये गये हैं. जिसमें एक्ट का उल्लंघन करने पर तीन से पांच साल की सजा तय है.
दिल्ली से आये सामाजिक कार्यकर्ता एस जार्ज ने कहा कि लिंगानुपात में कमी दिमागी अपराध के कारण हो रहा है. मीडिया को इसके लिए जागकता लाने में अहम भूमिका निभाना चाहिए. प्रमुख स्वास्थ्य सेवाएं डॉ प्रवीण चंद्रा सहित राज्य के सिविल सर्जन मौजूद थे.

No comments:

Post a Comment