Tuesday, August 9, 2011

माफ करना

माफ करना



 

नही भूल पाता 

चाहे 

संभोग हो या समाधि 

साधना से सत्संग तक

प्रणय से पूजा तक
हर समय साथ साथ साथ साथ बना रहता है साथ
सच है कि नाम का जादू है, चेहरा शरीर सब रह गए पीछे
फिर भी
पता नहीं तुम क्या मानों
पर देह से भी हो रहा है लगाव
खवाब में ही सही
मिलन की चाह से उठ रही है निगाह
दूर दूर दूर बहुत दूर दूर तक है अंतहीन फासला,
फिर भी
चाहत पूरी हो सकती है
क्या तुम राजी हो (सपनों में)
बताना 
माफ करना
चाह की मेरी हर निगाह की ....की कोई राह की
हम अब दूर नहीं रह सकते प्रिय
पर तुम
राजीनामा दो
तभी 
महसूस करूंगा (देह) गंध में तेरी सुगंध
जो मेरे पास बिखर कर खुशबू से कर देती है तरोताजा
तरोताजा-तरोताजा रोज रोज
रोज की तरह
ख्वाब में ही सहीं देखना चाहता हूं
एक होने का सुख
क्या तुम राजी हो ?
माफ करना चाह की मेरी निगाह की।

No comments:

Post a Comment