Monday, August 15, 2011

मेरा भारत मेरी शान

यह पृष्‍ठ अंग्रेजी में (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं)

मेरा भारत मेरी शान

भारत दुनियां की सबसे पुरानी सभ्‍यताओं में से एक हैं, जो 4,000 से अधिक वर्षों से चली आ रही है और जिसने अनेक रीति-रिवाजों और परम्‍पराओं का संगम देखा है। यह देश की समृद्ध संस्‍कृति और विरासत का परिचायक है।
राष्‍ट्र के इतिहास में उपनिवेशवाद से उबरते एक देश से लेकर 50 वर्षों के अंदर वैश्चिक परिदृश्‍य में एक अग्रणी अर्थव्‍यवस्‍था तक के विकास में उदारता की झलकें दिखाई देती है। लोगों में इन सबसे बढकर राष्‍ट्रीयता की भावना इस विकास के योगदान में सक्रिय रही है। राष्‍ट्र का यह विकसित होता रूप देश और दुनियां में प्रत्‍येक भारतीय के मन में राष्‍ट्रीय गर्व की भावना उत्‍पन्‍न करता है और यह खण्‍ड इसी भावना को सदैव आगे बढाने का एक विनम्र प्रयास है।

क्या आप जानते हैं कि?

संस्कृत को सभी उच्च भाषाओं की जननी माना जाता है। इसका कारण हैं इसकी सर्वाधिक शुद्धता और इसीलिए यह कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर के लिए एक उपयुक्त भाषा है (फ़ोर्ब्स पत्रिका जुलाई 1987 की एक रिपोर्ट में)।
भारत के बारे में अधिक रोचक तथ्य

भारत पर उद्धरण

भारत मानव जाति का पालना है, मानवीय वाणी का जन्‍म स्‍थान है, इतिहास की जननी है और विभूतियों की दादी है और इन सब के ऊपर परम्‍पराओं की परदादी है।
भारत पर अधिक उद्धरण

65वां स्‍वतंत्रता दिवस आयोजन

62वां गणतंत्र दिवस आयोजन

राष्ट्र के विषय में तथ्य

  1. भारतीय राष्‍ट्रीय झण्‍डे की आचार संहिता, जिसे भारतीय झण्‍डे की संहिता, 2002 कहा गया है, कानूनों, प्रथाओं, परम्‍पराओं और अनुदेशों को एक साथ लाकर प्रत्‍येक संबंधित व्‍यक्ति को इसके लिए मार्गदर्शन देने और लाभ पहुंचाने का एक प्रयास है। भारतीय झण्‍डे की संहिता 2002 (पीडीएफ फाइल जो नई विंडों में खुलती है) के बारे और अधिक जानें। भारत का राष्‍ट्रीय झण्‍डा (gif - 2 KB) डाउनलोड करें।
  2. "जन गण मन" गीत मूल रूप से रविन्‍द्रनाथ टैगोर द्वारा बंगाली में लिखा गया था और इसे 24 जनवरी 1950 को हिन्‍दी संस्‍करण के रूप में राष्‍ट्र गान के तौर पर विधानमण्‍डल द्वारा अपनाया गया। इसे भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस कलकत्‍ता सत्र में 27 दिसम्‍बर 1911 को पहली बार गाया गया था।
    भारतीय राष्‍ट्र गान (817 KB, 0:52 Sec.) (नई विंडों में खुलती है) डाउनलोड करें।

No comments:

Post a Comment