Sunday, July 10, 2011

रामदेव हमारे लिए एक खतरा : स्विस बेंक को रामदेव से खतरा


  स्विस बैंक एसोसिएशन और स्विस सरकार ने बताया है की स्विस बैंको में जमा धन में पन्द्रह लाख करोड डॉलर की भयंकर कमी आयी है .. और स्विस इकोनोमी को खतरा पैदा हो गया है .. वहा के सारे अखबारों और टीवी डिबेट में इसे "रामदेव इफेक्ट " कहा जा रहा है . स्विस बैंको में सबसे ज्यादा काला धन भारत से जमा होता है फिर चीन और रूस का नम्बर आता है .. बाबा रामदेव के अभियान से प्रभावित होकर चीन और रूस में भी काले धन के वापस लेन की जोरदार मुहीम चल रही है. चीन सरकार अरब देशो में हुई क्रांति से डरकर तुरंत ही एक कानून बना कर स्विस सरकार से सारा ब्योरा माँगा है और काले धन विदेश में जमा करने वालो को मृतुदंड देने की क़ानूनी बदलाव किया है, रूस में भी पिछले कई दिनों से लोग काले धन के खिलाफ लेनिन स्क्वायर पर प्रदर्शन कर रहे थे आखिरकार रुसी सरकार ने भी २ महीने में सारे काले धन को वापस लेन का देश की जनता को लिखित आश्वाशन दिया है .. रूस के सामाजिक कार्यकर्ता और रूस में काले धन के खिलाफ आन्दोलन चला रहे बदिमिर इलिनोइच ने बाबा रामदेव को प्रेरणाश्रोत मानकर अपना आन्दोलन चलाया ..

स्विटरज़रलैंड के लगभग सभी अखबारों जैसे स्विस टुडे, स्विस इलेस्ट्रेटेड, और टीवी चनेलो ने बाबा रामदेव को एक "खलनायक " के रूप में बता रहे है . इधर भारत में भी कांग्रेस पार्टी और सरकार उपरी मन से चाहे जो कुछ भी कहे लेकिन उसे भी अब जनता के जागरूक होने का डर सताने लगा है . कांग्रेस इस देश की टीवी चनेलो और अखबारों को तो खरीद सकती है लेकिन भारत में तेजी से उभर रही न्यू मीडिया [ वेब पोर्टल , फेसबुक , ट्विटर ] पर चाहकर भी वो प्रतिबन्ध नहीं लगा सकती .. एक सर्वे में पाया गया है की इन्टरनेट पर कांग्रेस के खिलाफ जोरदार अभियान चल रहा है और ये अभियान कोई पार्टी नहीं चला रही है बल्कि इस देश के जागरूक और शिछित युवा चला रहे है जिनका किसी भी राजनितिक पार्टी से कोई लेना देना नहीं है ..

कांग्रेस बाबा रामदेव को आर एस एस का एजेंट बताकर बाबा ने जो मुद्दे इस देश के सामने रखे है उसे झुठला नहीं सकती .. बाबा रामदेव ने अपना अनसन कोई हिन्दुत्ववादी मुद्दों को लेकर नहीं किया .. असल में इस देश में भ्रष्टाचार से मुस्लिम समाज ज्यादा ही पीड़ित है क्योंकि अशिछा और वोट बैंक की राजनीती ने मुस्लिम समाज को हमेशा ठगा है .. कांग्रेस की शुरू से ही ये निति रही है की दलितो को सवर्णों का भय दिखाओ , सवर्णों को दलितो का भय दिखाओ , मुस्लिम को हिंदू का भय दिखाओ . मुस्लिम को आर एस एस का भय दिखाओ और हिन्दुओ को सिमी और लश्कर का भय दिखाओ .. और वोट हासिल करके इस देश को जमकर लूटो .. एक तरफ कांग्रेस बाबा रामदेव के आन्दोलन को गलत बता रही है लेकिन मारीशस के साथ हुई टैक्स संधि जो कांग्रेस ने अपने नेताओ और राबर्ट बढेरा के फायदे के लिए की थी जिसको समाप्त करने के बाबा ने आन्दोलन किया उसे अब सरकार क्यो समाप्त करने जा रही है ? असल में अब कांग्रेस को एहसास हो गया की लाठी और गोली के दम पर आज तक पुरे विश्व में कही और किसी भी आवाज को दबाया नहीं जा सकता है बल्कि वो और भडकता है


No comments:

Post a Comment